""
Showing posts with label स्वास्थ्य. Show all posts
Showing posts with label स्वास्थ्य. Show all posts

Tuesday, 18 April 2017

Amulya Khabar

Benefits of Cow Ghee in Hindi...गाय के घी के लाभ / नुस्खे...






Benefits of Cow Ghee in Hindi...गाय के घी के लाभ / नुस्खे...
Posted on 19.04.2017 By: Deep Singh Yadav 

 गाय के घी को अमृत कहा गया है  । ऐसा माना जाता है कि काली गाय का घी खाने से बूढ़ा व्यक्ति भी जवान जैसा लगने लगता है।गाय के घी में ऐसे औषधीय गुण होते हैं जो  किसी और चीज़ में नहीं मिलते। यहाँ तक की इसमें ऐसे माइक्रोन्यूट्रींस होते हैं जिनमें कैंसर  से लड़ने की क्षमता होती है। आप धार्मिक नजरिये  से देखें तो घी से हवन करने पर लगभग 1 टन ताजे ऑक्सीजन का उत्पादन होता है। यही कारण है कि मंदिरों में गाय के घी का दीपक जलाने तथा धार्मिक समारोहों में यज्ञ करने कि प्रथा प्रचलित है।

 आइए अब आपको बताते हैं कि गाय के घी का क्या क्या उपयोग है...


* गाय का घी नाक में डालने से पागलपन  एंव एलर्जी खत्म हो जाती है। गाय का घी नाक में डालने से लकवा के रोग का भी उपचार होता है। घी व मिश्री मिलाकर खिलाने से शराब, भाँग व गाँजें का नशा कम हो जाता है।
ऐसी मान्यता है कि  गाय का घी नाक में डालने से कान का पर्दा बिना ओपरेशन के ही ठीक हो जाता है। नाक में घी डालने से नाक की खुश्की दूर होती है और दिमाग तरोताजा हो जाता है। यहाँ तक की गाय का घी नाक में डालने से कोमा से बाहर निकल कर चेतना वापस लोट आती है।


* गाय का घी नाक में डालने से बालों का झड़ना समाप्त होकर नए बाल उगने लगते हैं। गाय के घी को नाक में डालने से मानसिक शाँती मिलती है एंव याददाश्त तेज होती है।


* हाथ पाँव मे जलन होने पर गाय के घी को तलवों में मालिश करने से जलन ठीक हो जाती है। हिचकी के न रुकने पर  गाय का आधा चम्मच घी खाए, हिचकी  रुक जाएगी। गाय के घी का नियमित सेवन करने से एसिडिटी व कब्ज की शिकायत दूर हो जाती है।


* गाय के घी से बल बढ़ता है और शारीरिक व मानसिक ताकत में भी बढ़ोतरी होती है। गाय के पुराने घी से बच्चों की छाती और पीठ पर मालिश करने से कफ की शिकायत दूर हो जाती है। अगर अधिक कमजोरी लगे, तो एक गिलास दूध में एक चम्मच गाय का घी और मिश्री डालकर पी लें।


यह भी पढ़ें...Benefits of Banana in hindi >>> केला खाने के लाभ



* गाय का घी न सिर्फ कैंसर को पैदा होने से रोकता है बल्कि इस बीमारी को फैलने से भी आश्चर्यजनक ढंग से रोकता है। देसी गाय के घी में कैंसर से लड़ने की अचूक क्षमता होती है। इसके सेवन से स्तन तथा आँत के खतरनाक कैंसर से भी बचा जा सकता है।


* जिस व्यक्ति को हार्ट अटैक की तकलीफ है और तैलीय चीजें खाने की मनाही है तो गाय का घी खायें, ह्रदय मज़बूत होता है।


* घी, छिलका सहित पिसा हुआ काला चना और पिसी शक्कर (बूरा) तीनों को समान मात्रा में मिलाकर लड्डू बना लें और सुबह खाली पेट एक लड्डू खूब चबा-चबाकर खाते हुए एक गिलास मीठा गुनगुना दूध घूँट-घूँट करके पीने से स्त्रियों के प्रदर रोग में आराम होता है, पुरुषों का शरीर मोटा ताजा यानी सुडौल और बलवान बनता है।


* फफोलो पर गाय का देसी घी लगाने से आराम मिलता है। सांप के काटने पर ५० -१०० ग्राम घी पिलायें उपर से जितना गुनगुना पानी पिला सके पिलायें जिससे उलटी और दस्त तो लगेंगे ही लेकिन सांप का विष कम हो जायेगा।


* दो बूंद देसी गाय का घी नाक में सुबह शाम डालने से माइग्रेन दर्द ठीक हो जाता है। सिर दर्द होने पर शरीर में गर्मी लगती हो, तो गाय के घी की पैरों के तलवे पर मालिश करे, सर दर्द ठीक हो जायेगा।


* गाय के घी के सेवन से कॉलेस्ट्रॉल नहीं बढ़ता है। वजन भी नही बढ़ता, बल्कि वजन को संतुलित करता है । यानी के कमजोर व्यक्ति का वजन बढ़ता है, मोटे व्यक्ति का मोटापा (वजन) कम होता है।


* एक चम्मच गाय का शुद्ध घी में एक चम्मच बूरा और 1/4 चम्मच पिसी काली मिर्च इन तीनों को मिलाकर सुबह खाली पेट और रात को सोते समय खाकर ऊपर से गर्म मीठा दूध पीने से आँखों की रोशनी बढ़ती है।


* गाय के घी को ठण्डे जल में फेंट ले और फिर घी को पानी से अलग कर ले यह प्रक्रिया लगभग सौ बार करे और इसमें थोड़ा सा कपूर डालकर मिला दें। इस विधि द्वारा प्राप्त घी एक असर कारक औषधि में परिवर्तित हो जाता है जिससे  त्वचा सम्बन्धी हर चर्म रोगों में चमत्कारिक मल्हम कि तरह से इस्तेमाल कर सकते है। यह सौराइशिस के लिए भी कारगर है।


* गाय का घी एक अच्छा  कोलेस्ट्रॉल है। उच्च कोलेस्ट्रॉल के रोगियों को गाय का घी ही खाना चाहिए। यह एक बहुत अच्छा टॉनिक भी है।

 यह भी पढ़ें...Home Remedies for Weight Loss in hindi >>> वज़न घटाने के घरेलू नुस्‍खे

 * रात को सोते समय एक गिलास मीठे दूध में एक चम्मच घी डालकर पीने से शरीर की खुश्की और दुर्बलता दूर होती है, नींद गहरी आती है, हड्डी बलवान होती है और सुबह शौच साफ आता है।

* यदि स्वस्थ व्यक्ति भी हर रोज नियमित रूप से सोने से पहले दोनों नासिकाओं में हल्का गर्म (गुनगुना) देसी गाय का घी डालकर सोने की आदत बनाले तो इससे नींद गहरी आएगी, खर्राटे बंद होंगे, याददाश्त तेज होगी और कई बीमारियों से शरीर का बचाव होगा । इसके लिए बिस्तर पर लेट कर दो दो बूँद घी दोनों नासिकाओं में डाल कर पाँच मिनट तक सीधे लेटे रहें।

Read More

Saturday, 15 April 2017

Amulya Khabar

Benefits of Sugarcane Juice in Hindi...गन्ने के रस के चमत्कारिक फायदे...






Benefits of Sugarcane Juice in Hindi...गन्ने के रस के चमत्कारिक फायदे...
Posted on 16.04.2017 By: Deep Singh Yadav




दिन में एक गिलास गन्ने का रस मिल जाए तो आपको  ताजगी मिल जाती है। गन्ने का रस केवल   गर्मी से ही नहीं बचाता है बल्कि कई प्रकार की बीमारियों से भी दूर रखता है। इसे पीने से आपको भरपूर ऊर्जा मिलती है।
गन्ने का रस बहुत ही सेहतमंद और गुणकारी पेय है। इसमें कैल्शियम, पोटैशियम, आयरन, मैग्नेशियम और फॉस्फोरस जैसे आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते हैं. इनसे हड्डि‍याँ मजबूत बनती हैं और दाँतों की समस्या भी कम होती है. गन्ने के रस के ये पोषक तत्व शरीर में खून के बहाव को भी सही रखते हैं।


कैंसर से बचाव...
गन्ने के रस में कैल्शियम, पोटैशियम, आयरन और मैग्नेशियम की मात्रा इसके स्वाद को क्षारीय (खारा) करती है, गन्ने के रस में मौजूद यह तत्व हमें कैंसर से बचाते हैं. गन्ने का रस कई तरह के कैंसर से लड़ने में सहायक है। प्रोस्टेट और स्तन (ब्रेस्ट) कैंसर से लड़ने में भी इसे लाभदायक माना जाता है।


यह भी पढ़ें...Tips To Gain Weight in Hindi... How To Gain or Increase Weight in Hindi... Foods To Gain weight in Hindi...वजन बढ़ाने के उपाय



पाचन को ठीक रखता है...
गन्ने के रस में पोटैशियम की अधिक मात्रा होने की वजह से यह शरीर के पाचनतंत्र के लिए बहुत लाभदायक होता है।  गन्ने का रस पाचन सही रखने के साथ-साथ पेट में होने वाले संक्रमणों से भी हमें बचाता है। गन्ने का रस कब्ज की समस्या को भी दूर करता है।


किडनी के लिए फायदेमंद...
गन्ने के रस में प्रोटीन अच्छी मात्रा में होता है। इसमें नींबू और नारियल पानी मिलाकर पीने से किडनी में संक्रमण, युरीन इन्फेक्शन, और पथरी जैसी समस्याओं में आराम मिलता  है।

ह्रदय रोगों से बचाव...
गन्ने का रस  दिल के दौरे के लिए भी फायदेमंद है। गन्ने के रस से शरीर में कॉलेस्ट्रोल और ट्राईग्लिसराइड का स्तर गिरता है। इस तरह धमनि‍यों में फैट नहीं जमता और दिल व शरीर के अंगों के बीच खून का बहाव ठीक रहता है।
 

तुरंत ताकत के लिए...
गन्ने के रस में प्राकृतिक तौर पर शुगर होती है जो शरीर में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ाती है और यह पानी की कमी को पूरा करता है। इसके सेवन के तुरंत बाद आप  ऊर्जावान महसूस करेंगे। गर्मियों में डीहाइड्रेशन से बचाने में मददगार है।


 यह भी पढ़ें...Benefits of Cucumber (Kheera) in Hindi...खीरा खाने के फायदे



वजन कम करने में सहायक...
गन्ने का रस शरीर में प्राकृतिक शक्कर पहुँचाकर और खराब कॉलेस्ट्रोल को कम करके आपका वजन कम करने में सहायता करता  है। इस रस में घुलनशील फाइबर होने के कारण वजन संतुलित रहता है।


त्वचा में निखार ...
गन्ने के रस में अल्फा हाइड्रॉक्सी एसिड   होता है, जो त्वचा से सम्बन्धित परेशानियों को दूर करता है और इसमें कसाव लाता है। AHA मुहांसों से भी राहत पहुँचाता है, त्वचा के दाग कम करता है, त्वचा को नमी देकर झुर्रिया कम करता है। गन्ने के रस को त्वचा पर लगायें और सूखने के बाद पानी से धो लें।   आपकी त्वचा में निखार आ जायेगा।


रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है...
एंटीऑक्सीडेंट्स अच्छी मात्रा में होता हैं जो शरीर की  रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता  हैं। यह लिवर से जुड़े संक्रमण और पीलिया के मरीजों के लिए भी इसीलिए ही लाभदायक माना जाता है।


दाँतों के लिए लाभदायक...
गन्ने के रस में मिनिरल्स अधिक होते हैं इसलिए यह मुँह से संबंधित समस्याओं जैसे - दाँतों में सड़न, साँसों की दुर्गंध से बचाव में मददगार होता है। सफेद चमकदार दाँतों के लिए गन्ने के रस का सेवन करना चाहिये।


बुखार से बचाव...
फेब्रा‌इल डिसॉडर यानी प्रोटीन की कमी से बार-बार बुखार से बचाव के लिहाज से गन्ने का रस काफी लाभदायक होता है।


 यह भी पढ़ें...Tulsi Benefits in Hindi / Tulsi ke fayde in Hindi... तुलसी के फायदे और उपयोग...



लीवर को स्वस्थ रखता है...
गन्ना आपका बिलीरुबिन (bilirubin) लेवल बनाए रखता है। इसलिए आयुर्वेद में इसका पीलिया के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। अध्ययन के अनुसार, गन्ने का रस लीवर को खराब होने से बचाता है।  प्रतिदिन एक गिलास रस पीने से पीलिया की बीमारी में फायदा मिलता है।


गन्ने के रस में वे सारे पोषक पदार्थ होते हैं, जिनसे आपके नाखून चमकदार बनते हैं। यह प्राकृतिक रूप से नाखूनों को मज़बूत बनाता है और उन्हें रंग खोने से भी बचाता है।
Read More

Friday, 7 April 2017

Amulya Khabar

Benefits of Cucumber (Kheera) in Hindi...खीरा खाने के फायदे






Benefits of Cucumber (Kheera) in Hindi...खीरा खाने के फायदे
Posted on 08.04.2017 By: Deep Singh Yadav
 
दोस्तो, नमस्कार‍‍‍...

गर्मी का मौसम शुरु हो चुका है, इसलिये आज आपको मैं बताने जा रहा हूँ खीरे के बारे में, जो हमें गर्मी से बहुत राहत देता है। खीरे में पानी की मात्रा काफी होती है, इसलिये यह शरीर के लिए बहुत लाभदायक होता है।

* खीरा पानी का एक बहुत ही अच्छा स्रोत है इसमें लगभग 96 प्रतिशत पानी होता है। इसमें कई ए॓से एंजाइम होते हैं जो प्रोटीन को पचाने में हमारी सहायता करते हैं।

* जो लोग अपना मोटापा कम करना चाहते है उनके लिए खीरा एक वरदान की तरह होता है क्योंकि इसमें कैलोरी बहुत कम मात्रा में पाई जाती है। खीरा सबसे ज्यादा सलाद के रुप में प्रयोग किया जाता है
Also read... Motivational Story in Hindi...मजबूत इरादे...

* खीरे में पाइनोरिस्नोल, लैरीक्रिस्नोल तत्व पाये जाते हैं जो को सभी तरह के कैंसर से बचाव करते हैं। इससे कैंसर का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है।

* खीरे का नियमित प्रयोग करने से त्वचा की नमी बनी रहती है और त्वचा का रुखापन दूर हो जाता है।

* खीरे का सेवन करने से ह्रदय से सम्बंधित रोग होने की सम्भावना बहुत कम हो जाती है, क्योंकि इसमें कोलेस्ट्रोल का स्तर कम होता है।

* खीरा खाने से मुँह की बदबू दूर होती है तथा मसूड़ों की बीमारी से भी बचाव होता है।

* खीरे में मैग्नीशियम तथा पोटेशियम होता है जिससे हमारा ब्लड प्रेशर ठीक रहता है।
Also read... Guru Nanak Biography in Hindi >>> गुरु नानक देव जी की जीवनी

* खीरा पाचन क्रिया को सही रखता है जिससे कब्ज नहीं होता है। यह बुखार,शरीर की जलन एंव गर्मी, पीलिया जैसे दोषों को दूर करता है।

* खीरे का 250 ग्राम जूस दिन में तीन बार पीने से पथरी में आराम मिलता है। जूस का स्वाद बढ़ाने के लिए इसमे नींबू या शहद मिला सकते हैं।

* खीरे के छिलके में इस प्रकार के फाइबर होते हैं जो शरीर में घुलते नहीं हैं। ये फाइबर पेट के लिए बहुत फायदेमंद हिते हैं। इसलिए खीरा छिलका सहित खाना चाहिए।

* खीरे का सेवन प्रतिदिन करने से रोग प्रतिरोधक शक्ति का विकास होता है। खीरे में नमी की मात्रा अधिक होने के कारण यह शरीर और त्वचा दोनों को स्वस्थय रखता है। 

* खीरे में विटामिन ए,बी१,बी६,सी,डी और आयरन तथा फोस्फोरस पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है।
* खीरे का पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगाने से चेहरे की त्वचा मुलायम बनती है।
Also read...interesting words / facts of Lord Shri Krishna life in hindi >>> भगवान श्री कृष्ण के जीवन से जुड़े कुछ रोचक पहलू...

* खीरे का लगातार सेवन करना आँखों की रोशनी के लिए लाभदायक होता है क्योंकि इसके छिलके में बीटाकैरोटीन नामक तत्व होता है जो कि आँखों के लिए काफी फायदेमंद होता है।

* खीरे में मौजूद एस्कोरबिक एसिड व कैफीक एसिड पानी की कमी( जिसके कारण आंखों के नीचे सूजन आने लगती है।) को कम करता है।

* खीरे में सिलिकन व सल्फर बालों की ग्रोथ में मदद करते हैं। अच्छे परिणाम के लिए आप चाहें तो खीरे के जूस को गाजर व पालक के जूस के साथ भी मिलाकर ले सकते हैं। 

* खीरे का नियमित सेवन से मासिक धर्म में होने वाली परेशानियों से छुटकारा मिलता है। दही में खीरे को कसकर उसमें पुदीना, काला नमक, काली मिर्च, जीरा और हींग डालकर रायता बनाकर खाएं इससे काफी आराम मिलेगा।

* खीरे में सीलिशिया प्रचुर मात्रा में होता है। इससे जोड़ों को मजबूती मिलती है और टिशू परस्पर मजबूत होते हैं। गाजर और खीरे का जूस मिलाकर पीने पर गठिया बाय रोग में मदद मिलती है। इससे यूरिक एसिड का स्तर भी कम होता है

Also read... Whatsapp Status in Hindi (Motivational)


Read More

Monday, 20 March 2017

Amulya Khabar

Tips To Gain Weight in Hindi > How To Gain or Increase Weight in Hindi > Foods To Gain weight in Hindi >वजन बढ़ाने के उपाय




Image result for increase weight in hindi image
Read More

Sunday, 15 January 2017

Amulya Khabar

Ginger Benefits in Hindi >>Adrak ke Fayde >> अदरक जूस (रस) के लाभ





Ginger Benefits in Hindi...Adrak ke Fayde



अदरक जूस (रस) के लाभ...

 Posted On 15.01.2017 By: Deep Singh Yadav


सावधानी...गर्मी के मौसम में, रक्त की उल्टी,रक्त स्राव आदि के रोगी अदरक का सेवन कम से कम करें। अदरक एक बार में 10 से 15 या अधिकतम 20 ग्राम तक ही लें और उसका रस एक या दो चम्मच से ज्यादा न लें।


* जो व्यक्ति लगातार अदरक के रस का सेवन करते हैं उनके जोड़ों में दर्द और सूजन नहीं होती है। अदरक के रस में एंटीआॉक्सीडेंटस होते हैं जिससे शरीर में रक्त का प्रवाह बढ़ता है और खून भी साफ होता है।


* अदरक कैंसर जैसी बीमारी से भी हमें बचाता है। यह स्तन कैंसर पैदा करने वाले सेल्स को बढ़ने से भी रोकता है।


* अदरक के प्रयोग से ब्लड प्रैशर की बीमारी में भी लाभ होता है क्योंकि अदरक में खून को पतला करने की शक्ति होती है।


* अदरक के रस का प्रयोग करने से त्वचा सम्बंधी बीमारियों में भी फायदा होता है। इसका सेवन करने से मुहांसों से छुटकारा पा सकते हैं।


यह भी पढ़ें...
Self Improvement in Hindi...ये काम आपकी जिन्दगी को बर्बाद कर सकते हैं...

* अदरक वाली चाय पीने से स्मरण शक्ति बढ़ती है। जी मचलाना और गर्भावस्था के दौरान होने वाली उल्टी को भी रोकती है।


* सिर दर्द होने पर गर्म पानी या दूध में सौंठ (सूखी अदरक) का लेप बनाकर सिर में लगाने से लाभ होता है।


* अदरक पाचन शक्ति को बढ़ाती है। यह गर्म होती है। अदरक को चाय, सब्जी ,चटनी किसी भी रुप में लिया जा सकता है।

यह भी पढ़ें...
Garlic Benefits in Hindi >> लहसुन के फायदे / घरेलू उपचार



* कान में दर्द होने पर एक चम्मच सरसों के तेल में लगभग 10 बूँदें अदरक के रस की मिलाकर गर्म कर लें फिर थोड़ा ठण्डा (गुनगुना) करके कान में डालें कान के दर्द में आराम मिलेगा।


* अदरक के रस का लगातार सेवन करने से आपके बाल घने और चमकदार बनते हैं और रुसी से भी छुटकारा मिलेगा।


* एक चम्मच रस, एक कप पानी में लगभग दो या तीन चम्मच पिसी हुई मिश्री मिलाकर प्रतिदिन दो बार सेवन करने से बहुमूत्रता (बार बार पेशाब होने) में आराम मिलेगा।


* अक्सर सर्दी की वजह से गला बैठ जाता है,  और आवाज साफ नहीं निकलती है इसके लिये अदरक के टुकड़े पर नमक डालकर चूसे आराम मिलेगा।


 दोस्तो, अगर आप चाहते हैं कि इस लेख से अन्य लोगों को भी लाभ मिले तो Ginger Benefits in Hindi  को अपने मित्रों के साथ भी शेयर करें। इसी प्रकार के अन्य लेख अपने ई मेल में सीधे प्राप्त करने के लिए Free Subscribe  करें और हमारे Face Book Page को भी Like करना न भूलें। Thanks.





Read More

Wednesday, 4 January 2017

Amulya Khabar

Guava Benefits in Hindi >> Amrood Khane Ke Fayde in Hindi / अमरुद खाने के लाभ


Guava Benefits in Hindi... Amrood Khane Ke Fayde in Hindi / अमरुद खाने के लाभ

Posted On 04.01.2017 By: Deep Singh Yadav 

 दोस्तो, अमरुद पेट और कब्ज के लिए बहुत लाभदायक होता है। सर्दियों में अमरुद को फलों का राजा भी कहा जाता है। अमरुद में विटामिन सी काफी मात्रा में होती है।वेदों में अमरुद को जामफल भी कहा जाता है। इसका वैज्ञानिक नाम सैडियम गुजावा है। आइए अब जानते हैं कि अमरुद खाने के क्या क्या लाभ होते हैं.....

* अमरुद में विटामिन ए होता है जिससे आँखों की रोशनी बढ़ती है।

* अमरुद खाने से ब्लड प्रेशर कन्ट्रोल होता क्योंकि इसमें विटामिन सी होता है।

* अमरुद के पत्तों को चबाने से साँसों में ताजगी आती है और मसूड़े मजबूत बनते हैं।

* अमरुद में पाये जाने वाले विटमिन ए, बी, सी की वजह से त्वचा में निखार आता है।

* अमरुद खाने से खाँसी में राहत महसूस होती है।

* अमरुद खाने से अस्थमा मसूड़ों का दर्द और ह्रदय से सम्बन्धित बीमारी को दूर किया जा सकता है।

* अमरुद चेहरे के दाग धब्बों और फुंसियों को  ठीक  करता है।

* अमरुद का रस पीने से फ्लू में फायदा होता है और यह डेंगू जैसे बुखार से भी दूर रखता है।

* अमरुद को काटकर शहद और काला नमक मिलाकर खाने से बच्चों के पेट के कीड़े खत्म हो जाते हैं।


* यदि जुकाम काफी दिनों से हो तो पके हुए अमरूद के बीजों को खायें और उसके बाद पानी पी लें।


* अमरूद के बीजों को चबाकर खाने से आंतों को फायदा होने के साथ-साथ पेट भी साफ रहता है।

* पके हुए अमरूद में पौष्टिकता अधिक होती है। क्योंकि यह हीमोग्लोबीन की कमी को दूर करता है। महिलाओं को पका हुआ अमरूद जरूर खाना चाहिए।


* अमरूद में पाया जाने वाला विटामिन बी-9 शरीर की कोशिकाओं और डीएनए को सुधारने का काम करता है
। 

* रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए अमरुद का सेवन लाभदायक होता है।

* प्रतिदिन अमरुद का सेवन करने से सर्दी जुकाम  में लाभ होता है।

* अमरूद में मौजूद लाइकोपीन नामक फाइटो न्‍यूट्र‍िएंट्स शरीर को कैंसर और ट्यूमर के खतरे से बचाने में सहायक होते हैं
 

* कच्‍चे अमरूद में पके अमरूद की अपेक्षा विटामिन सी अधिक पाया जाता है. इसलिए कच्‍चा अमरूद खाना ज्‍यादा फायदेमंद  होता है

* नॉर्मल थायरॉइड में भी डॉक्‍टर अमरूद खाने की सलाह देते हैं


* अमरुद उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करता है।

*
  रोजाना अमरुद का सेवन करने से पाइल्स की समस्या का समाधान संभव है। अमरुद में मौजूद फाइबर की उच्च मात्रा  मल को मुलायम बनाती है तथा मेटाबोलिज्म में वृद्धि करती है, जिसके कारण बवासीर की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है।

* अमरुद का सेवन करने से गुर्दे में पथरी  होने से रोका जा सकता है। अमरुद में मौजूद विटामिन सी की मात्रा शरीर में अतिरिक्त कैल्शियम को सोख लेती है, जिससे गुर्दे में पथरी होने का ख़तरा पैदा होता है।


*
अमरूद की पत्त‍ियों को पीसकर उसका पेस्ट बनाकर आँखों के नीचे लगाने से काले घेरे और सूजन कम हो जाती है
Read More

Sunday, 25 December 2016

Amulya Khabar

Tulsi Benefits in Hindi / Tulsi ke fayde in Hindi >> तुलसी के फायदे और उपयोग...





Tulsi Benefits in Hindi / Tulsi ke fayde in Hindi...



तुलसी के फायदे और उपयोग...



 Posted on 25.12.2016 By: Deep Singh Yadav


हिंदू धर्म में तुलसी का विशेष धार्मिक महत्व होता है। तुलसी स्वास्थ्य के लिए भी बहुत लाभदायक होती है। वैज्ञानिकों ने भी तुलसी में पाये जाने वाले गुणों की पुष्टि की है। तुलसी को पवित्र मानकर इसकी पूजा की जाती है। सबसे अच्छी बात तुलसी को दवाई के रुप में लेने से इसका कोई साइड इफैक्ट नहीं होता है।

तो आइए अब जानते हैं कि तुलसी के क्या क्या फायदे हैं.....


* खाँसी...तुलसी की पत्तियों को अदरक के साथ चबाने से  खाँसी में आराम मिलता है और चाय के साथ उबालकर पीने से गले की खराश दूर होती है।


* बवासीर.....तुलसी के बीजों का चूर्ण बनाकर दही के साथ लेने से बवासीर जैसी कष्टदायक बीमारी का खात्मा हो जाता है।


* चक्कर आना.....शहद में तुलसी के पत्तों का रस मिलाकर चाटने से चक्कर आना बंद हो जाता है।


* त्वचा में निखार.....तुलसी और नींबू का रस बराबर मात्रा में मिलाकर चेहरे पर लगाने से चेहरे पर निखार आता है और फुसिंयाँ एंव झाइयाँ ठीक हो जातीं हैं।


* कान दर्द..... तुलसी के पत्तों का रस और लहसुन के रस को  आग पर भून लीजिए, फिर हल्का गुनगुना कान में डालिए। कान दर्द ठीक हो जायेगा। ध्यान रखें कान में तेल डालते समय गर्म नहीं होना चाहिए। कान की समस्‍याओं जैसे कान बहना, दर्द होना और कम सुनाई देना आदि में तुलसी बहुत ही फायदेमंद होती है।


* उल्टी .....तुलसी का रस, अदरक का रस एंव छोटी इलाइची को समान मात्रा में लेने से उल्टी नहीं होती है।


* दस्त.....तुलसी के पत्ते भुने जीरे के साथ मिलाकर शहद के साथ दिन में 2 से 3 बार चाटने से आराम मिलता है।


* आँखों मे जलन..... यदि आपकी आँखों मे जलन होती है तो श्यामा तुलसी का अर्क 1- 1 बूँद आँखों में डालना चाहिए। आपको सलाह दी जाती है कि इस उपाय को आजमाने से पहले नेत्र चिकित्सक से सलाह जरूर ले लें।


* सिर दर्द..... अगर अक्सर आपको सिर दर्द रहता है और आप दवाइयाँ खाते खाते परेशान है स्थाई आराम नहीं मिल रहा है तो आप कुछ दिनों तक तुलसी का काढ़ा बनाकर पीजिए आराम मिलेगा।


* मुँह की बदबू.....अगर आपके मुँह में बदबू आती है तो आप तुलसी के पत्तों को सुखाकर उनका चूर्ण बना लें फिर सरसों के तेल में मिलाकर कुल्ला करें, राहत महसूस करेंगे। पायरिया में भी फायदा होगा।


* तनावरोधी.....तुलसी में तनावरोधी गुण भी पाये जाते हैं। प्रतिदिन 8 से 10 तुलसी के पत्तों का सेवन करने से तनाव से लड़ने की ताकत आती है।


* किडनी स्टोन.....तुलसी की पत्तियों को उबालकर उसका अर्क बना लें। शहद के साथ इस अर्क को मिलाकर 5 से 6 महीने तक सेवन करें किडनी स्टोन पेशाव से साथ बाहर निकल जायेगा।

* दाद, खाज.....दाद, खाज,  खुजली या त्वचा में संक्रमण होने पर तुलसी के अर्क को लगायें आराम मिलेगा।


* साँस, दमा.....तुलसी, अदरक और शहद का काढ़ा बना कर पीने से साँस नली की सूजन, कफ, दमा और सर्दी में फायदेमंद होती है।


* बुखार..... तुलसी का अर्क पीने से बुखार में राहत मिलती है।


* लीवर.....जिन्हें लीवर की समस्या है उन लोगों को सुबह खाली पेट तुलसी की 10-12 पत्तियों को खाना चाहिए, आराम मिलेगा।


* सर्दी जल्दी लगना..... जिन्हें सर्दी जल्दी लग जाती है उन्हें तुलसी की 8-10 पत्तियों को एक कप दूध में उबालकर पीना चाहिए।




Read More

Saturday, 26 November 2016

Amulya Khabar

Garlic Benefits in Hindi >> लहसुन के फायदे / घरेलू उपचार

Image result for about lahsun in hindi
 Garlic Benefits in Hindi...लहसुन के फायदे / घरेलू उपचार
Posted On 27.11.2016 By:Deep singh Yadav

 दोस्तो, सर्दी का मौसम शुरु हो चुका है। हम लोग सर्दी से बचने के लिए तरह तरह के उपाय करते हैं। शरीर को बाहर से सर्दी से बचाने के लिए गर्म कपड़े पहनते हैं, हीटर वगैरह का सहारा लेते हैं,लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि शरीर को आंतरिक रुप से गर्म कैसे रखें और विभिन्न प्रकार की बीमारियों से कैसे बचायें? दोस्तो प्रकृति ने( कुदरत) हमें एक ऐसा वेशकीमती तोहफा दिया है जिसको यदि हम रोजाना अपने खाने में इस्तेमाल करें तो सर्दी के साथ साथ कई प्रकार की बीमारियों से भी बच सकते है। इस तोहफे का नाम है लहसुन, जो सभी के यहाँ रसोई में आसानी से मिल जाता है। तो आईए अब जानते हैं कि लहसुन खाने के क्या क्या फायदे हैं.....

* लहसुन की तासीर गर्म होती है। ठण्‍ड को दूर करने का यह कुदरती उपाय है। यह बॉडी की इम्युनिटी बढ़ाता है।

* लहसुन के प्रयोग से हाइपर टेंशन या हाई ब्लड प्रेशर को कम किया जा सकता है, जो कार्डियोवैस्कुलर डिजीज जैसे हार्ट अटैक और स्ट्रोक्स का कारण होता है।

* लहसुन कोलेस्ट्रॉल लेवल को सुधारता है जिससे हार्ट अटैक की सम्भावना कम होती है।

* लहसुन के प्रयोग से अल्जाइमर और डिमेंशिया जैसी बीमारियों से भी रक्षा होती है। लहसुन में एंटीऑक्सीडेंट * गुण होते हैं जिसके कारण ऐसा होना संभव होता है।

* लहसुन में आयरन पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है जो खून के निर्माण में सहायक होता है। 

* लहसुन अलग अलग तरह के इन्फेक्शन से भी बचाता है।

* लहसुन प्रोस्टेट, कोलोन और पेट के कैंसर से भी बचाता है। इस तरह के कैंसर के लिए बनाई जाने वाली दवाओं में लहसुन का इस्तेमाल होता है।

* यदि आप बढ़ते वजन से परेशान हैं तो अपनी डाइट में लहसुन को बढ़ाएं। इससे शरीर की अतिरिक्त चर्बी कम होती है।

* सर्दी-जुकाम में लहसुन रामबाण है, इसे दूध में उबालकर पिलाने से बच्चों में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।

* अगर आपके बाल बहुत गिर रहे हैं पतले हो रहे हैं तो लहसुन को कुचलकर स्कैल्प पर लगायें। काफी फायदा होगा।

* इसे भूनकर खाने से सांस चलने की परेशानी पर काबू पाया जा सकता है। 

* लहसुन के प्रयोग से खाना आसानी से पच जाता है। जिन लोगों को गैस की प्रॉब्लम है उन्हें लहसुन का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए। सुबह खाली पेट एक कली साबुत लहसुन पानी के साथ लेने से परेशानी दूर हो जाती है।

* गठिया और जोड़ों के रोगों में लहसुन का सेवन बहुत लाभदायक है, लहसुन खाने से जोड़ों के दर्द में आराम मिलता है। 

* लहसुन का प्रयोग अस्थमा रोगियो के लिए बेहद प्रभावी है। इसके सेवन से रेस्पिरेटरी संबंधी परेशानियां ख़त्म होती हैं और आसानी से सांस ली जाती है।

* इसे पीसकर त्वचा पर लेप करने से विषैले कीड़ों के काटने या डंक मारने से होने वाली जलन कम हो जाती है।

* लहसुन का रोजाना प्रयोग कई तरह के कैंसर से बचाता है जिनमे से ब्रेस्ट कैंसर भी शामिल है। आजकल महिलाओं में तेजी से बढ़ रहे ब्रेस्ट कैंसर से बचने के लिए लहसुन को प्रतिदिन खाने में शामिल करना चाहिए।

* लहसुन से दाँतों के दर्द में भी आराम मिलता है। लहसुन को लौंग के साथ पीसकर दाँतों के दर्द वाले हिस्से पर लगाने से दर्द से तुरंत राहत मिलता है।

* शरीर में दाद होने पर भी लहसुन के अर्क का प्रयोग कर दाद से राहत पाई जा सकती है।

* लहसुन का प्रयोग डायरिया से भी बचाता है। पाचन शक्ति बढ़ती है और शरीर के टॉक्सिन बाहर निकलते हैं।

* लहसुन में विटामिन सी, सेलेनियम और अन्य तत्व मिलकर आँखों के इन्फेक्शन से भी बचाते हैं।

* गर्भावस्था के दौरान लहसुन का नियमित सेवन माँ और शिशु, दोनों के स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद है।  यह गर्भ के भीतर शिशु के वजन को बढ़ाने में सहायक है। 

* लहसुन को खाने से एसिडिटी नही होती है और पाचन क्रिया सही होती है। 

* इसे दूध में उबालकर पिलाने से बच्चों में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।

  निवेदन.....दोस्तो, अगर आपको  Garlic Benefits in Hindi  पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को सोशल मीडिया पर शेयर जरुर करें ताकि सभी को इसका लाभ मिल सके। इसी प्रकार की अन्य जानकारी पाने के लिए आप हमारे FACEBOOK पेज को लाइक कीजिए एंव ताजा जानकारी अपने ईमेल में प्राप्त करने के लिए Free Subscribe  करना न भूलें।
Thankx

Read More

Tuesday, 22 November 2016

Amulya Khabar

Tips To Gain Weight in Hindi > How To Gain or Increase Weight in Hindi > Foods To Gain weight in Hindi >वजन बढ़ाने के उपाय

Image result for increase weight in hindi image
Tips To Gain Weight in Hindi...How To Gain or Increase Weight in Hindi... Foods To Gain weight in Hindi...वजन बढ़ाने के उपाय
Read More

Wednesday, 9 November 2016

Amulya Khabar

Winter Health Tips in Hindi >>> सर्दियों / ठण्ड में स्वस्थ रहने के कुछ उपाय


Image result for winter health images
Winter Health Tips in Hindi... सर्दियों / ठण्ड में स्वस्थ रहने के कुछ उपाय...
Posted On 10.11.2016 By: Deep Singh Yadav 

 दोस्तो, सर्दी का मौसम आ गया है और इसकी ठंडी हवाएं त्वचा को कई प्रकार से हानि पहुँचाती हैं। इसलिए आज आपको बताते हैं आसान से कुछ उपाय जिससे आप सर्दियों में स्वस्थ रहें।

* सर्दियों में गर्म चाय या कॉफी पीने से हमें कुछ देर के लिए गर्मी महसूस होती है। लेकिन इसमें मौजूद कैफीन शरीर की उष्‍मा को कम कर देता है। इसलिए बेहतर होगा कि इसके स्‍थान पर कैफीन रहित या हर्बल पेय का सेवन करें। इनमें गर्म रखने के प्राकृतिक गुण होते हैं।

* ठंडी हवाएं त्वचा पर गहरा असर डालती हैं , इससे त्‍वचा फटने लगती है इसलिए साबुन का प्रयोग कम करना चाहिए, क्योंकि साबुन त्वचा की शुष्कता को और बढ़ा देता है। बाजार में ऐसे भी साबुन उपलब्‍ध हैं जो ऑइल बेस्‍ड होते हैं, आप उनका प्रयोग प्रयोग कर सकते हैं।
 
* बिस्‍तर से निकलने से पहले कुछ मामूली व्‍यायाम कर आप स्‍वयं को बाहर आने पर भी गर्म रख सकते हैं। इसके लिए अपने पैरों की अँगुलियों को 20-25 बार ऊपर नीचे करें। फिर दोनों दिशाओं में पैरों के टखनों को गोलाकार घुमाएं। इससे खून का प्रवाह बढ़ेगा व आप गर्माहट महसूस करेंगे।

* अधिक गर्म पानी से स्नान न करें। स्नान करते समय पानी में कुछ बूँदें बेबी ऑइल, ऑलिव ऑइल या बॉडी ऑइल की भी डालें। इससे त्वचा मुलायम बनी रहेगी। इस मौसम में स्टीम बाथ लेना त्वचा के लिए काफी लाभदायक होता है। इससे त्वचा का रुखापन दूर होता है।
 
* प्रोटीन के हजम होने पर शरीर का तापमान बढ़ जाता है। इसे पचाने के लिए शरीर को बहुत मेहनत करनी पड़ती है, जिसकी वजह से आपको अधिक ऊर्जा की जरूरत पड़ती है। इससे ऊष्‍मा पैदा होती है और जो हमें गर्म रखती है। इसके लिए आप दूध और इससे बनी चीजों का नियमित रूप से सेवन करें।
 
* रोज़ नहाने से पहले और बाद में  अपने शरीर पर  सरसों के तेल की मालिश करनी चाहिये। तेल की मालिश करने के बाद 15 मिनट तक धूप में बैठना और भी लाभदायक रहता है, इससे त्वचा मुलायम बनी रहती।
 
* ठण्ड लगने पर हम अक्‍सर अपनी जेब में हाथ डालकर चलने लगते हैं, जबकि हाथ को खुला छोड़कर चलने से माँसपेशियों की कसरत हो जाती है और इससे खून का प्रवाह तेज हो जाता है जो ऊष्‍मा पैदा करने में शरीर की सहायता करता है।
* सर्दी के मौसम में होठों पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है इसलिए होठों पर मलाई या फिर अच्‍छा लिप बाल्‍म लगाना चाहिए। बाजार में कई ऐसे बाल्‍म उपलब्‍ध हैं जिनमें ट्री ऑइल मिला होता है। ऐसा करने से होंठ नरम, मुलायम,  एवं गुलाबी बने रहते हैं।

*
कुछ सावधानियाँ अपना कर आप निश्चित रूप से सर्दियों को आरामदायक बना सकते हैं। इम्‍यून सिस्‍टम को बेहतर बनाने के लिए संतुलित आहार लें। हाथ की सफाई का विशेष ध्यान रखें, इससे जुकाम से बचाव होता है। दूध के साथ च्यवनप्राश आदि के सेवन से भी आप अपने आप को गर्म महसूस कर सकते हैं।
 
* सर्दियों की शुरूआत में कभी सर्दी कम तो कभी ज्‍यादा लगती है। इसलिये कपड़े पहनने में लापरवाही न करें। सर्दी कम रहने पर भी गर्म कपड़े पहने । सर्दी का असर सबसे पहले हाथों, सिर,एंव पैरों पर होता है, इसलिए शरीर को पूरी तरह ढ़क कर रखना चाहिये।

* सर्दियों की धूप सुहावनी होती है और इससे हमें विटामिन डी  भरपूर मात्रा में मिलता है। धूप से, सुस्त पड़ी त्वचा को ऊर्जा मिलती है। सर्दियों में सुबह उगते हुए सूर्य की किरणों का भरपूर आनन्द लें। इससे जहां मन को सुकून मिलता है वहीं शरीर को  ऊर्जा मिलती है। जिससे आप स्वयं को तरो ताजा महसूस करेगे।



Read More